eid milad un nabi : तुम्हारी भी जय जय, हमारी भी जय जय

eid milad un nabi

भरतपुर। हिंदू-मुस्लिम के नाम पर बेहिसाब नफरत फैलाने वालों के लिए अपनाघर आश्रम भरतपुर ने एक बेमिसाल नजीर पेश की है। हिंदुओं के प्रथम आराध्य देव गणेश जी की प्रतिमा की विसर्जन यात्रा के साथ ही मुस्लिमों के पैगंबर मोहम्मद साहब के जन्मदिन का eid milad un nabi जुलूस एक साथ निकाला गया और हर उस नफरत करने वाले बंदे को सबक दिया कि यह देश गंगा जमुना की तहजीब का देश है जहां नफरत की कोई गुंजाईश नहीं है। अपनाघर आश्रम भरतपुर मंे eid milad un nabi यानि बारावफात पर मोहम्मद साहब की ईबादत व गणपति बप्पा की प्रतिमा का विसर्जन का अद्भुत संगम देखने को मिला। सैकडों की संख्या में गणेश जी की विसर्जन यात्रा एवं पैगम्बर मोहम्मद साहब के जन्म दिन का ईद-ए-मिलाद जुलूस एक साथ निकाले गए। एक तरफ गणपति बप्पा मोरिया की धुन पर नाचते गाते श्रद्धालु गाजे-बाजे के साथ चल रहे थे तो दूसरी तरफ पैगम्बर मोहम्मद साहब की आयतों के उद्घोष के साथ मुस्लिम समाज के लोग ढोल नगाडों पर थिरक रहे थे। खास बात यह है कि कभी हिंदू धर्म के अनुयायी इस्लाम धर्म के जुलूस में शामिल हो पैगंबर साहब के जुलूस में पूरे जोशोखरोश से नारे लगा रहे थे तो कभी इस्लाम धर्म के अनुयायी गणेश विसर्जन यात्रा में गणपति बप्पा मोरिया का उद्घोष कर रहे थे। गणपति प्रतिमा की विसर्जन यात्रा व मोहम्मद साहब के बारावफात जुलूस का समापन एक ही स्थल पर आमने-सामने हुआ। गणेश जी की प्रतिमा को संस्था परिसर में बने विशाल पातालतोड हार्वेस्टिंग सिस्टम में हिंदू धर्म की रीति रिवाज के अनुसार जल में समाधि दी गई। वहीं आध्यात्मिक केंद्र में इस्लाम धर्म का जलसा हुआ जिसमें मौलवियों द्वारा पैगम्बर मोहम्मद साहब की आयतें पढ़ी गईं। अंत में कुरान शरीफ का पाठ हुआ। गौरतलब है कि आश्रम में मुस्लिम समुदाय के करीब 700 से अधिक आवासी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *